भारत का वीडियो OTT बाजार 2030 तक 12.5 बिलियन अमरीकी डालर हो जायेगा : रिपोर्ट

By | July 20, 2021

भारत का OTT बाजार 2030 तक 12.5 बिलियन डॉलर हो जायेगा। अभी फिलाहल 2021 मैं यह 1.5 बिलियन डॉलर का हैं। RBSA की एक रिपोर्ट एक अनुसार ऐसा इसलिए होगा क्युकी भारत मैं बेहतर नेटवर्क, डिजिटल कनेक्टिविटी और स्मार्टफोन तक पहुंच हो रही हैं।

रिपोर्ट के मुताबिक येह ग्रोथ टियर 2 , 3 ,4 शहरों से और भारतीय भाषा जैसी हिंदी ,तमिल ,पंजाबी कन्नड़ इत्यादि बोले जाने वाले शहरो से आएगी

रिपोर्ट मैं बताया गया हैं की – ”ओटीटी उद्योग बेहतर नेटवर्क, डिजिटल कनेक्टिविटी और स्मार्टफोन तक पहुंच के साथ आक्रामक विकास संभावनाओं के लिए तैयार है। भारत में ओटीटी प्लेटफॉर्म तेजी से ग्राहकों को रोजाना आकर्षित कर रहे हैं। शीर्ष पसंदीदा डिज़्नी+ हॉटस्टार, अमेज़ॅन प्राइम वीडियो और नेटफ्लिक्स के अलावा, अंतरिक्ष में स्थानीय और क्षेत्रीय ओटीटी खिलाड़ियों की अधिकता देखी जा रही है।

सोनि लिव, वूट , जी5 , इरोस नाउ , ऑल्ट बालाजी , होइछोई एंड अड्डा टाइम्स जैसे कुछ स्थानीय OTT प्लेटफार्म हैं।

रिपोर्ट के अनुसार इंडिया का OTT वीडियो मार्किट जो की अभी 1.5 बिलियन USD का हैं वो 2025 तक 4 बिलियन USD का हो जायेगा और 2030 तक वो 12.5 Billion USD का हो जायेगा। ऑडियो OTT का बाज़ार जो की अभी 2021 मैं 0.6 बिलियन USD का हैं वो 2025 तक 1.1 बिलियन USD का बन जायेगा और 2030 तक वो 2.5 बिलियन USD का हो जायेगा। ऑडियो OTT में Gaana, Jio Saavn , Wynk Music , Spotify जैसे खिलाडी हैं।

रिपोर्ट के मुताबिक भारत मैं OTT बाज़ार सालाना 28.6% CAGR से अगले चार साल तक बढ़ेगा। RBSA के अनुसार भारत मैं OTT इंडस्ट्री अगले 9-10 सालों मैं 15 बिलियन USD तक हो सकती हैं।

रिपोर्ट मैं कहा गया हैं की OTT के लिए COVID-19 महामारी एक गेम चेंजर। नेटफ्लिक्स, अमेज़ॅन प्राइम वीडियो, डिज़नी + हॉटस्टार, वूट, सोनी लिव और अन्य सहित ओटीटी वीडियो स्ट्रीमिंग प्लेटफॉर्म ने भारत में अपार लोकप्रियता हासिल की थी। इसमें कहा गया है कि अगले 4-5 वर्षों में ओटीटी परिदृश्य अति-प्रतिस्पर्धी होने की उम्मीद है, और ओटीटी सेवा प्रदाता उपभोक्ताओं के बीच पसंदीदा मंच के रूप में उभरने का प्रयास करेंगे।

ओटीटी सेवाओं जैसे नेटफ्लिक्स, अमेज़ॅन, डिज़नी + हॉटस्टार, और अन्य द्वारा मूल रूप से हासिल की गई सामग्री के साथ बड़े पैमाने पर निवेश, वीडियो-ऑन-डिमांड को कुल ओटीटी राजस्व का 93 प्रतिशत बनाने में मदद करेगा (विश्व स्तर पर 87 प्रतिशत की तुलना में) ), 2019-2024 के बीच 30.7 प्रतिशत की सीएजीआर से बढ़ रहा है, यह कहा गया।

OTT का ARPU Rs 537.25 रहा

रिपोर्ट के मुताबिक OTT वीडियो सेगमेंट का ARPU 2021 में 7.2 USD रहा। भारतीय रूपए में यह Rs 537.25 हुआ। OTT का यूजर बेस 2025 तक 462.7 मिलियन या फिर 46.27 करोड़ होगा।

”पिछले कुछ वर्षों में भारतीय उपभोक्ताओं की देखने की आदत काफी विकसित हुई है। एक ओर जहां स्मार्टफोन और सोशल प्लेटफॉर्म पर शॉर्ट-फॉर्म वीडियो कंटेंट की खपत बढ़ रही है, वहीं दूसरी ओर विभिन्न ओटीटी प्लेटफॉर्म पर दBinge शो देखना भी आम हो गया है।



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *